हम सभी एक ऐसे समाज में रहते हैं जहां शारीरिक संबंध बनाने को लेकर बात ही नहीं की जाती है। जीवन से जुड़े इतने बड़े सत्य को न जाने क्यों पर्दों के पीछे छिपा कर रखा जाता है। यहीं वजह है की अक्सर लोग वैवाहिक जीवन का सुख पूरी तरह ले ही नहीं पाते, क्योकि जब इस विषय पर खुलकर बात ही नहीं कि जाती तो शारीरिक कमजोरी की समस्याओं पर भी लोगों को अधिक या यूं कहें की सही जानकारी नहीं होती। कई बार लोगों को लगता है की वह अपने पार्टनर को संतुष्ट नहीं कर पा रहे हैं, क्योकि उनका स्टेमिना कम है। पुरुष इसे अपने पौरुष से जोड़ कर देखते हैं।